Monthly Magzine
Tuesday 20 Feb 2018

Current Issue

सुश्री रमणिका गुप्ता ने लगभग एक वर्ष पूर्व अपनी पत्रिका युद्धरत आम आदमी का एक विशेषांक प्रकाशित किया था। यह अंक ओडिआ भाषा की स्त्री कथाकारों पर केन्द्रित था। इसमें तीन पीढ़ी की लेखिकाओं की लगभग पचास कहानियां संकलित की गई थी। इस उपक्रम से एक ओर ओडिआ भाषा में लिखे जा रहे कथा साहित्य से हिन्दी पाठक परिचित हुए; ओडिआ लेखिकाओं की सामथ्र्य को जाना; तथा भारतीय समाज में औरतों की क्या स्थिति है, उसका भी मार्मिक चित्रण देखने मिला। कहना न होगा कि यह लीक से हटकर एक अभिनव प्रयास था। यह विशेषांक यदि पुस्तक रूप में आ सके तो इसका स्थायी महत्व हो सकेगा। एक दौर था जब हिन्दी की लोकप्रिय

Read More

Previous Issues