Monthly Magzine
Tuesday 21 Nov 2017

अक्षर पर्व March   2016 (अकं 198)  की रचनायें

  • बख्शीश ( लघु कथा  )
  • By : डॉ. श्यामबाबू शर्मा     View in Text Format    |     PDF Format
  • शरणदाता ( पुन:पाठ  )
  • By : अज्ञेय     View in Text Format    |     PDF Format
  • शरणदाता : विडम्बना का यथार्थ  ( पुन:पाठ  )
  • By : पल्लव     View in Text Format    |     PDF Format
  • सारा घर ले गया, घर छोड़ के जानेवाला ( उपसंहार  )
  • By : सर्वमित्रा सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format
  • रचनावार्षिकी के लिए प्रश्नावली ( समाचार   )
  • By : ललित सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षरपर्व प्राप्त होते ही सबसे पहले तमाम काम छोड़कर उपसंहार पढऩे की आदत सी बना ली है। ( पत्र  )
  • By : डा. दरवेश भारती     View in Text Format    |     PDF Format
  • कैलाश वनवासी के आलेख ; कहानी का गंतव्य में विचारों की स्वतंत्रता के दुश्मनों, नव आर्थिक साम्राज्यवाद और फासिस्ट संस्कृति द्वारा किए जा रहे  ( पत्र  )
  • By : नवनीत कुमार झा, हरिहरपुर     View in Text Format    |     PDF Format
  • कहानी विशेषांक के रूप में उत्सव अंक से पाठकों के घर-परिवार में जैसे आनंदोत्सव आ गया। सैकड़ों कहानियों में से अपने वक्त की तासीर व तस्वीर से रू-ब-रू कराने में सक्षम कहानियों का चयन करना निस्संदेह दुरूह कार्य है जिसे आपने सफलता की बुलंदी तक पहुंचा दिया है।  ( पत्र  )
  • By : प्रो.भगवानदास जैन,     View in Text Format    |     PDF Format
  • उत्सव अंक संग्रहणीय है। ललित जी की सिद्धहस्त लेखनी में प्रस्तावना पत्रिका का संपूर्ण सार है। ( पत्र  )
  • By : डा. विकास कुमार,     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षरपर्व जुलाई अंक में मानवाधिकार और प्रेमचंद शीर्षक आलेख को पुष्ट विश्लेषण से भरपूर पाया। ( पत्र  )
  • By : गिरीशचंद्र चौधरी     View in Text Format    |     PDF Format