Monthly Magzine
Tuesday 18 Dec 2018

अक्षर पर्व December   2015 (अकं 195)  की रचनायें

  • अक्षरपर्व का अक्टूबर अंक अपने कलेवर में बहुत खूबियां समेटे हुए है। मणिपुर, इम्फाल की धधकती एवं शर्मिला चानू की धरती से आईं विजयलक्ष्मी जी की रचनाओं में समसामयिक विद्रूपताएं जिस अंदाज में उकेरी गई हैं  ( पत्र  )
  • By : सुसंस्कृति परिहार     View in Text Format    |     PDF Format
  • रचना वार्षिकी भीष्म साहनी विशेषांक का एक-एक पन्ना पढ़ गया, प्रस्तावना से लेकर उपसंहार तक। ( पत्र  )
  • By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षरपर्व निरंतर मिल रहा है, आभार। सितम्बर अंक में चंद्रसेन विराट की कविता बहुत सुंदर है। ( पत्र  )
  • By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format