Monthly Magzine
Tuesday 21 Nov 2017

अक्षर पर्व June   2015 (अकं 189)  की रचनायें

  • इतिहास के खण्डित पत्रों की पहचान (भीष्म साहनी का उपन्यास ‘मय्यादास की माड़ी’) ( रचना वार्षिक   )
  • By : तरसेम गुजराल     View in Text Format    |     PDF Format
  • प्रगतिशील लेखक संघ एवं जननाट्य संघ के मंच पर भीष्म जी ( रचना वार्षिक   )
  • By : डॉ. व्रजकुमार पांडेय     View in Text Format    |     PDF Format
  • मुआवजे की प्रासंगिकता ( रचना वार्षिक   )
  • By : डॉ. वंदना शर्मा     View in Text Format    |     PDF Format
  • ‘मय्यादास की माड़ी’ का कथाकार ( रचना वार्षिक   )
  • By : डॉ. विश्वनाथ त्रिपाठी     View in Text Format    |     PDF Format
  • मैं भी दिया जलाऊंगा, मां! (2003 में प्रकाशित भीष्म साहनी की कहानी) ( रचना वार्षिक   )
  • By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • तमस की कहानी भीष्म जी की जुबानी ( रचना वार्षिक   )
  • By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षरपर्व अप्रैल अंक अपनी अभिनव सामग्री से सुसज्ज व सुसमृद्ध है। ( पत्र  )
  • By : ललित सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षर पर्व का फरवरी अंक अच्छा लगा। इसमें प्रकाशित जाफर मेहदी, राकेश भारतीय और इंद्रप्रकाश कानूनगो की कहानियां, ( पत्र  )
  • By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • देखते-देखते ‘अक्षर पर्व’ ने उन्नीसवें वर्ष में प्रवेश कर लिया है। बीस वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में एक भव्य आयोजन रायपुर में जरूर करेंगे। ( पत्र  )
  • By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • जब भीष्म साहनी की जन्मशती पर विशेषांक निकालना तय हुआ तो मन में संशय था कि इतने विराट व्यक्तित्व को कुछ पन्नों में कैसे सहेजा, समेटा जाएगा। ( उपसंहार  )
  • By : सर्वमित्रा सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format