Monthly Magzine
Saturday 18 Nov 2017

अक्षर पर्व January   2015 (अकं 184)  की रचनायें

  • कवि मलय के नए संकलन \'\'असंभव की आंच\'\' की एक कविता \'\'रात में दूना\'\' की ये अंतिम पंक्तियां हैं। ( प्रस्तावना  )
  • By : ललित सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format
  • वर्तमान भारत में बुद्धिजीवियों की भूमिका ( विचार-लेख  )
  • By : नंद चतुर्वेदी     View in Text Format    |     PDF Format
  • थोपना ( कहानी  )
  • By : जयनंदन     View in Text Format    |     PDF Format
  • शातिर ( कहानी  )
  • By : मृत्युंजय तिवारी     View in Text Format    |     PDF Format
  • लड़की बिकाऊ नहीं है ( कहानी  )
  • By : डॉ. राजेश पाल     View in Text Format    |     PDF Format
  • आर्ट का पुल ( कहानी  )
  • By : अनुवाद- दरवेश भारती     View in Text Format    |     PDF Format
  • कच्चा दूध ( कविता  )
  • By : प्रेमशंकर रघुवंशी     View in Text Format    |     PDF Format
  • साक्षी हूँ मूक ( कविता  )
  • By : विजेन्द्र     View in Text Format    |     PDF Format
  • क्या फर्क पड़ता है! ( कविता  )
  • By : बलदेव वंशी     View in Text Format    |     PDF Format
  • टूटा तो भी ( कविता  )
  • By : शैलेंद्र     View in Text Format    |     PDF Format