Monthly Magzine
Monday 20 Nov 2017

पत्र

  • अक्षरपर्व का अप्रैल अंक आद्योपांत पढ़ गया। प्राय: सभी रचनाएं स्तरीय हैं।
  • August  2015   ( अंक191 )
    By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षर पर्व लगातार मिल रही है। भीष्म साहनी पर केंद्रित जून अंक संग्रहणीय बन पड़ा है।
  • August  2015   ( अंक191 )
    By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षरपर्व का रचना वार्षिकी पढ़ कर मन प्रफुल्लित हो उठा।
  • August  2015   ( अंक191 )
    By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षरपर्व का चिरप्रतीक्षित भीष्म साहनी अंक प्राप्त हुआ। अंक का अंतर्बाह्य दोनों ही पर्याप्त श्लाघ्य हैं।
  • August  2015   ( अंक191 )
    By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • श्याम कश्यप से पहली बार 1973 में जनयुग के कार्यालय में मुलाकात हुई। वह जो थे उसे छिपाते थे और जो नहींथे,उसे दिखाते थे।
  • September  2015   ( अंक192 )
    By : केवल गोस्वामी     View in Text Format    |     PDF Format
  • बहुत दिनों के बाद एक पूरा विशेषांक आदि से अंत तक पढ़ा। इसलिए कि \'\'भीष्म विशेषांक बहुत अच्छा निकला है। उसका प्रत्येक लेख सटीक, सार्थक और तथ्यपरक है। भीष्म जी सही मायने में बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे,
  • September  2015   ( अंक192 )
    By : डॉ. गंगाप्रसाद बरसैया     View in Text Format    |     PDF Format
  • \'अक्षर पर्व; जुलाई-2015 पढ़ा। इस अंक में पाठक मंच की सार्थक गतिविधियों से अवगत होना सुखद लगा।
  • September  2015   ( अंक192 )
    By : मंजुला उपाध्याय \'मंजुल\'     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षर पर्व का जुलाई अंक सामने है। ललित जी की प्रस्तावना पहली बार पढ़ी तो सटाक से निकल गई। विचार करने हेतु द्वितीय-तृतीय पाठ किया। कौंध सी उठी कि आप की बात कदाचित् समाप्त नहीं, यहीं से शुरू होती है।
  • September  2015   ( अंक192 )
    By : डा.श्यामबाबू शर्मा     View in Text Format    |     PDF Format
  • पिछले दिनों भाई पलाश के सौजन्य से अक्षर पर्व के बहुमूल्य अंक पढऩे को मिले।
  • September  2015   ( अंक192 )
    By : राकेश अचल     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षर पर्व मई-15 का स्तरीय साहित्यिक सरस सामग्रीपूर्ण अंक आद्योपान्त अवलोकित कर अत्यंत आनंदानुभूति हुई।
  • October  2015   ( अंक193 )
    By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format