Monthly Magzine
Wednesday 22 Nov 2017

पत्र

  • गुणसागर सत्यार्थी की रायप्रवीण फरवरी अंक की उपलब्धि है।
  • July  2016   ( अंक202 )
    By : पत्र     View in Text Format    |     PDF Format
  • ललित जी किसी भी विषय पर लिखें, उसमें उनका अध्ययन बोलता है।
  • July  2016   ( अंक202 )
    By : हितेश व्यास     View in Text Format    |     PDF Format
  • जनवरी 16 के अंक की प्रस्तावना में ललित जी ने अलाव पत्रिका के समकालीन गज़़ल विशेषांक के बहाने गज़़ल के कल और आज का एक सुविचारित लेखा-जोखा प्रस्तुत किया है।
  • July  2016   ( अंक202 )
    By : पत्र     View in Text Format    |     PDF Format
  • मई अंक में हरदर्शन सहगल की बात से मैं भी सहमत हूं और शायद अन्य लोग भी सहमत होंगे कि सभी के अपने यथार्थ उनके ज्ञान और अनुभव पर आधारित होते हैं
  • August  2016   ( अंक203 )
    By : गंगा प्रसाद बरसैंया     View in Text Format    |     PDF Format
  • अपनी प्रस्तावना में ललित जी हमेशा कुछ नायाब ही कहते रहे हैं, इस अंक की प्रस्तावना में ललित जी ने हिन्दी लेखन से जुड़ी एक महत्वपूर्ण समस्या पर विचार किया है!
  • August  2016   ( अंक203 )
    By : नवनीत कुमार झा     View in Text Format    |     PDF Format
  • माह जून-16 का अंक प्राप्त हुआ। आभार। कट्टरता, आतंकवाद, असहिष्णुता, वैचारिक स्वतंत्रता और बुद्दिजीवियों की भूमिका पर आपने दस प्रश्न तैयार कर देश के विद्वान विचारको-लेखकों के मन की बात
  • August  2016   ( अंक203 )
    By : गोवर्धन यादव।     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षर पर्व मई-16 अंक मिला। ललित जी ने प्रस्तावना से कई पाठकों को इतिहास में झांकने का मौका दिया है।
  • August  2016   ( अंक203 )
    By : दिलीप गुप्ते     View in Text Format    |     PDF Format
  • अक्षर पर्व मई-2016 अंक पढ़ा। बहुत अच्छा लगा। एक साथ छ: कहानियां इस अंक में पाकर मन गदगद हो गया। अप्रैल-2016 के अंक में मात्र तीन कहानियां प्रकाशित हुई थी।
  • August  2016   ( अंक203 )
    By : बलदेव कृष्ण कपूर     View in Text Format    |     PDF Format
  • जुलाई अंक में कांतिकुमार जैन के संस्मरण से जानकारी प्राप्त हुई कि तथाकथित भगवान का दर्जा पाने वाले ओशो रजनीश, दरअसल चंद्रमोहन जैन थे और विद्यार्थी जीवन से ही वे बड़े प्रतिभासंपन्न व तेजसवी थे।
  • September  2016   ( अंक204 )
    By : डॉ.सेराज खान बातिश     View in Text Format    |     PDF Format
  • सलमान खान के बयान पर सर्वमित्राजी की बात पर मैं भी हसताक्षर कर एक और बार अपना विरोध शामिल करना चाहती हूं।
  • September  2016   ( अंक204 )
    By : मंदाकिनी श्रीवास्तव     View in Text Format    |     PDF Format