Monthly Magzine
Sunday 19 Nov 2017

प्रो.भगवानदास जैन, की रचनायें

  • कहानी विशेषांक के रूप में उत्सव अंक से पाठकों के घर-परिवार में जैसे आनंदोत्सव आ गया। सैकड़ों कहानियों में से अपने वक्त की तासीर व तस्वीर से रू-ब-रू कराने में सक्षम कहानियों का चयन करना निस्संदेह दुरूह कार्य है जिसे आपने सफलता की बुलंदी तक पहुंचा दिया है।
  • March  2016   ( अंक198 )
    By :     View in Text Format    |     PDF Format
  • फरवरी अंक में प्रस्तावना में ललित जी ने हिंदी के मानक शब्दकोशों के बारे में अपना चिंतन और चिंता व्यक्त की है।
  • June  2016   ( अंक201 )
    By :     View in Text Format    |     PDF Format
  • ‘अक्षर पर्व’ का पूर्णांक 199 (अप्रैल 2016) यथा समय मिला।
  • July  2016   ( अंक202 )
    By :     View in Text Format    |     PDF Format
  • फरवरी अंक की प्रस्तावना में ललितजी ने 2017 के अंत तक तीन महाद्वीपों के तीन बड़े देशों में घटित विस्मयकारी घटनाओं के सूक्ष्म निरीक्षण व विश्लेषण द्वारा समूचे वैश्विक परिदृश्य को हमारे सम्मुख प्रस्तुत किया है।
  • April  2017   ( अंक211 )
    By :     View in Text Format    |     PDF Format