Monthly Magzine
Wednesday 19 Sep 2018

हीरे की अंगूठी

ऋतुपर्ण घोष बहुमुखी प्रतिभा के व्यक्ति थे। वे एक साथ फिल्म निर्देशक, पटकथा लेखक, अभिनेता, क्रियेटिव आर्टिस्ट, टीवी शो संचालक, संपादक और बहुत कुछ थे। 31 अगस्त 1963 को जन्मे ऋतुपर्ण घोष ने पढ़ाई तो इकोनॉमिक्स (जादवपुर युनिवर्सिटी) विषय ले कर की लेकिन उन्होंने अपने पेशे का प्रारंभ विज्ञापन फिल्मों में काम करने से किया। शुरु में वे विज्ञापन एजेंसी (एइस्पॉन्स इंडिया एडवर्टाइजिंग एजेंसी) में क्रियेटिव आर्टिस्ट के रूप में काम कर रहे थे। अपने जमाने में वे कलकत्ता के जाने-माने कॉपीराइटर थे। विज्ञापनों में वे अपनी सफल एक लाइनों तथा स्लोगन के लिए जाने जाते थे। पिछली सदी के अस्सी के दशक में बंगाल में पूरे भारत के इंग्लिश और हिन्दी के विज्ञापनों के बांग्ला अनुवाद का चलन था। उन्होंने 'शरद सम्मान’, 'बोन्गो जीबोनेर अन्गो’, 'बोरोलीन’, 'फ्रूटी’ पर काम किया। 1990 में उन्होंने अपनी एड एजेंसी, टेले-रिस्पॉन्स कायम की, यह रिस्पॉन्स एजेंसी का ही एक अंग था। और इसके तहत उन्होंने दूरदर्शन के लिए वंदे मातरम वृतचित्र बनाया।

कला की दुनिया में वे अद्भुत थे। कला उन्हें विरासत में मिली थी। उनके पिता सुनील घोष स्वयं डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाने वाले तथा पेंटर थे। मुख्य रूप से बांग्ला भाषा में सिनेमा बनाने वाले इस कुशल फिल्म निर्देशक ऋतुपर्ण घोष ने बॉलीवुड में भी अपनी प्रतिभा के लोहे मनवाए। ओ हेनरी की प्रसिद्ध कहानी 'गिफ्ट ऑफ द मैगी’ को हिन्दी में रूपांतरित कर 2004 में मात्र 17 दिन में शूट कर 'रेनकोट’ जैसी बेहतरीन फिल्म उन्होंने दर्शकों को दी। यह उनकी पहली हिन्दी फिल्म है। ऐश्वर्या राय, अजय देवगन की जोड़ी के अभिनय को समीक्षकों की भी भूरि-भूरि प्रशंसा मिली। कुल जमा तीन अभिनेता (अजय देवगन, ऐश्वर्या राय तथा अन्नू कपूर) और एक कमरे में चलती इस फिल्म को सर्वोत्तम फीचर फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त हुआ। बाद में इसका इंग्लिश रूपांतरण भी हुआ। आज के युग में प्रेम और उसकी यातना का इतना सुंदर चित्रण कदाचित ही देखने को मिलता है। बिना मेकअप, गानों-नाच के बिना भी ऐश्वर्या राय प्रभावित करती हैं। जीवन में यातना का फिल्मांकन ऋतुपर्ण घोष की एक विशेषता है।

ऋतुपर्ण घोष बहुमुखी प्रतिभा के व्यक्ति थे। उन्होंने विज्ञापन एजेंसी में काम किया अपनी विज्ञापन एजेंसी बना कर डॉक्यूमेंट्रीज बनाई। टीवी पर 'ईबंग ऋतुपर्ण तथा 'घोष एंड कं. चैट शो चलाए, 'गनेर ऑपेरा की स्क्रिप्ट लिखी। फिल्में बनाई। वे 1997 से 2004 तक 'आनंदलोकÓ पत्रिका के संपादक थे, साथ ही एक अन्य पत्रिका 'रोबर’ (संगबाद प्रतिदिन) के 2006 से अपनी मृत्यु तक संपादक रहे। उन्होंने न केवल फिल्में बनाई बल्कि फिल्मों में अभिनय भी किया। ऋतुपर्ण घोष ने सर्वप्रथम 2003 में एक उडिय़ा फिल्म में अभिनय  की। फिल्म का नाम है, 'कथा दैथिली मा कु’ जिसका निर्देशन हिमांशु परिजा ने किया है। उन्होंने 2011 में दो बांग्ला फिल्मों, अरेक्ति प्रेमेर गल्प (निर्देशक कौशिक गांगुली) तथा 'मेमोरीज इन मार्च’ (निर्देशक संजय नाग) में अभिनय किया। दोनों ही फिल्में समलैंगी संबंधों को चित्रित करती हैं। 2012 में उन्होंने दो अन्य बांग्ला फिल्मों, 'चित्रांगदा’ तथा 'जीवन स्मृति’ में काम किया। दोनों फिल्में रवींद्रनाथ टैगोर से जुड़ी हुई हैं। टैगोर की कहानी 'चित्रांगदा’ पर उनकी इसी नाम से बनाई फिल्म को उनकी मृत्योपरांत नेशनल फिल्म एवार्ड प्राप्त हुआ।

बच्चों के लिए बहुत कम फिल्में बनती हैं। बहुत कम फीचर फिल्म निर्देशक बच्चों के लिए फिल्म बनाते हैं। ऋतुपर्ण घोष ने सर्वप्रथम 1992 में बच्चों के लिए एक फिल्म 'हीरेर अंगटी’ (हीरे की अंगूठी) बनाई। अपनी विज्ञापन प्रसिद्धि के कारण वे बंगाल में एक जाना पहचाना नाम थे। अत: उनकी इस फिल्म को खूब सराहा गया मगर विडम्बना यह हुई कि इसे वितरक न मिले और यह सिनेमाघरों में नहीं दिखाई गई। आज इसे कल्ट का दर्जा दिया जाता है। आज इसे लोग देखते-दिखाते हैं। इस फिल्म की कहानी शीर्षेंदु मुखोपाध्याह की इसी नाम की कहानी पर आधारित है। पूरी फिल्म रंगों का इंद्रधनुष है। दुर्गा की प्रतिमा के चमकीले रंग, बंगाल की प्रकृति का हरा-भरा रंग, स्त्री-पुरुष-बच्चों की पोशाक के रंग। एक आदमी जो धोखा देने आया है, बच्चों के प्रेम में पड़ कर अपना मूल उद्देश्य भूल कर परिवार की सहायता करता है। रतनलाल बाबू के घर दुर्गा पूजा की तैयारियाँ जोर-शोर से चल रही हैं, उनका छोटा बेटा विदेश से परिवार सहित आया है। हबुल और तिन्नी उनके पोता-पोती घर को गुलजार किए हुए हैं। तभी गंधर्व कुमार नाम का एक व्यक्ति उनके घर आता है। यह आदमी बच्चों को अपने करतबों से लुभाता है। बच्चे उसके मुरीद बन जाते हैं। गंधर्व कुमार जादू जानता है, कागज से तरह-तरह की चीजें बनाता है, मुँह से आवाज निकाल कर बत्तखों को पास बुला सकता है, बाजा बजाता है। यह व्यक्ति खुद कोरतन बाबू की संपत्ति का वारिस कहता है, जिससे घर के बड़े लोगों के जीवन में तो भूचाल ही आ जाता है।

ऋतुपर्ण घोष ने बराबर स्वीकार किया कि वे सत्यजित राय के प्रशंसक हैं, भला कौन नहीं होगा! उन्होंने सत्यजित राय से खूब प्रेरणा भी ली। इस फिल्म 'हीरेर अंगटी’ को देखते हुए मुझे ठीक एक साल पहले (1991) अपनी ही कहानी पर बनाई सत्यजित राय की फिल्म 'आगंतुक’ की याद हो आई। दोनों फिल्मों में अतिथि घर के लोगों को बेचैन कर देता है। दोनों में बच्चे अतिथि से खूब प्रभावित हैं। ऋतुपर्ण घोष की फिल्म चोरों से संबंधित है जबकि सत्यजित राय विश्व और आदिवासियों को मुद्दा बनाते हैं। ऋतुपर्ण घोष के यहाँ बनावटी लोग हैं जबकि सत्यजित राय के यहाँ एक जेनुइन व्यक्ति है। दोनों फिल्मों में बहुत समानता होते हुए भी ये दो भिन्न फिल्में हैं। बच्चों के लिए बनाई गई यह फिल्म बड़ों को भी भाती है। फिल्म कथारस से भरपूर जो है।