Monthly Magzine
Tuesday 21 Nov 2017

परसाई : आज भी प्रासंगिक

हरिशंकर परसाई भारतीय भाषाओं के श्रेष्ठ व्यंग्यकार हैं। परसाई हास्य के खिलाफ  नहीं थे, लेकिन समाज में व्याप्त विसंगतियों पर सीधा प्रहार करने का जब समय उपस्थित हो, तब हास्य या विनोद में ही समाज को उलझाकर रखना अपने सामाजिक दायित्वों से मुँह मोडऩा हुआ, ऐसा मानना था हरिशंकर परसाई का और वे अपने लेखन के माध्यम से हर मानव विरोधी काम के खिलाफ  भिड़े। हरिशंकर परसाई बौद्धिक तेजस्विता के साकार स्वरूप थे। वे चाहते तो शिक्षा विभाग में प्रमोशन पाते हुए जीवन बिता सकते थे। लेकिन उन्होंने वैचारिकता की ऊर्जा का उपयोग समाज में व्याप्त विसंगतियों तथा शोषण के खिलाफ लड़ाई करने में लगे रहने की ठानी और जीवनभर वे कलम के मजदूर बनकर शोषितों में जन चेतना जगाने का काम करते रहे । वास्तव में हरिशंकर परसाई एक एक्टिविस्ट थे। वे शिक्षक रहे तो शिक्षकों को संगठित किया और उनके संघर्ष का नेतृत्व किया। वे ट्रेड यूनियन के साथ रहे और मजदूरों की लड़ाई लड़ी। वे कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य रहे और वर्गहीन समाज को समझकर जनता को जागृत करने का काम करते रहे। धाकड़ बुद्धिजीवियों और सत्ता प्रतिष्ठान में बैठे ताकतवर लोगों से वे बौद्धिक लोहा लेते रहे और उन्हें अपनी उपस्थिति का एहसास कराते रहे। किसी भी बुद्धिजीवी में साहस नहीं था कि वह हरिशंकर परसाई की उपस्थिति की उपेक्षा कर दे या उन्हें कमतर आंके। इसके विपरीत हम कह सकते हैं कि हरिशंकर परसाई की उपस्थिति सत्ता प्रतिष्ठान के बुद्धिजीवियों में दहशत पैदा करती थी तो दूसरी ओर उपेक्षित वास्तविक बुद्धिजीवियों में साहस का और भरोसे का संचार करती थी। यहाँ तक कि कलावादियों में यह हिम्मत नहीं हुई कि वे हरिशंकर परसाई की प्रगतिशील संलग्नता के साथ तार्किक बहस कर सकें, इसलिये कलावादियों ने कभी भी हरिशंकर परसाई को नहीं छेड़ा। कह सकते हैं कि हरिशंकर परसाई को न छेडऩे में ही अपनी भलाई समझी। इस तरह हरिशंकर परसाई एक तरफ  प्रगतिशील विचारधारा के साहित्यकारों के बीच गौरव थे तो कलावादियों के लिए आतंक रहे। परसाई ने कहा भी है मैं लेखक छोटा हूँ लेकिन संकट बड़ा हूँ। हिन्दी में किसी साहित्यकार का इस तरह राष्ट्रीय मान पा लेना कभी आसान नहीं रहा। हरिशंकर परसाई ने अपने कलमों की ताकत से राष्ट्रीय स्वीकृति का हक हासिल किया, यह शायद भारतीय भाषाओं में भी बिरल उदाहरण है। हरिशंकर परसाई एक्टिविस्ट थे और न केवल मजदूर संगठनों तथा शिक्षक संगठनों व लेखक संगठन से जुड़े थे वरन मनुष्य के सरोकार से सम्बन्धित और भी जनवादी संगठनों के साथ सक्रियता से जुड़े रहे। वे शांति एवं एकता संगठन तथा भारत सोवियत मैत्री संगठन के सक्रिय सदस्य रहे। भोपाल के बुधवारा के चौक में शांति एवं एकता संगठन की विशाल सभा को हरिशंकर परसाई ने सम्बोधित किया और उपस्थित जन की तालियां ही नहीं उनमें परसाई जी के प्रत्येक शब्द के अर्थ की गहराई तक पहुँचने की चेष्ठा भी प्रदर्शित हो रही थी। उस दिन हरिशंकर परसाई ने शांति के रास्ते पर साम्रयवादी ताकतों द्वारा बिछाए जा रहे कांटों पर जमकर प्रहार किया था और शांति कामी जनता को एक जुटता पर जोर दिया था। उनका भाषण महज औपचारिकता का न होकर एक एक्टिविस्ट के दिलोदिमाग से निकलने वाली भावना थी। उस दिन गौरवर्ण हरिशंकर परसाई मंच से नीचे उतर रहे थे तो उनका चेहरा लाल हो गया था।

       मैं ऐसा मानता हूँ कि परसाई जी का लेखन भी एक्टीविज़म का एक जरूरी हिस्सा रहा। वे अपने लेखन को एक्टीविज़म के एक हिस्से के रूप में लेते थे और इसी कारण उनका लेखन मनोरंजन के लिये न होकर जनशिक्षण के लिये था, यह उनके लेखन से स्पष्ट होता है। उनके लेखन में शास्त्रों से उधार ली गई बौद्धिकता नहीं है, वरन समाज में जो है उसका विश्लेषण वैज्ञानिक तरीके से किया गया है और वह जन साधारण के लिये विचार देने वाली तथा समझ पैदा करने वाली व स्थितियों से निपटने की ताकत देने वाली सामाजिक बौद्धिकता है। हरिशंकर परसाई इस अर्थ में एक सामाजिक जनवादी लेखक है। वे समाज से ही लेते हैं और समाज को ही देते हैं ।

हरिशंकर परसाई ने भारतीय बुर्जुआ जनतांत्रिक व्यवस्था का वैज्ञानिक अध्ययन किया और माक्र्सवादी चिन्तन विश्लेषण परम्परा का सहारा लेकर उसकी सही स्थिति प्रस्तुत की। उन्होंने भारतीय जनतांत्रिक व्यवस्था की विसंगतियों के सूक्ष्म अध्ययन व अवलोकन के बाद कुछ सार्थक निष्कर्ष दिए व उन्होंने इस अध्ययन के बाद साहित्यकारों को समझाया कि साहित्यकारों को अपनी रचनात्मक भूमिका तय करने के लिये राजनीतिक चिन्तन से सम्पृक्त होना होगा। हरिशंकर परसाई मानते थे कि राजनीति की समझ के बिना साहित्य कर्म केवल भाववादी बनकर रह जाता है इसलिये परसाई जी ने यह भी कहा कि एक रचनाधर्मी  के नाते राजनीतिक विसंगतियों की सही व कठोर आलोचना करते हुए उन पर प्रहार करना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि गैरबराबरी का समाज बने इसके लिये जरूरी है कि लेखक निरन्तर जनता के साथ सम्पर्क में रहे और बदलती स्थितियों पर नजर रखते हुए जनता को संघर्ष के लिये प्रेरित करे। उनका यह भी मानना रहा कि माक्र्सवाद का पुस्तकीय व महज सैद्धान्तिक ज्ञान ही समाजवाद नहीं ला देगा, इसके लिये साहित्यकारों का अपने अंदर बैठे संकोच को मारना होगा और खुले रूप में जनता के साथ संघर्ष में भागीदारी निभानी होगी। इसलिये हरिशंकर परसाई का व्यक्तित्व एक सचेतक रचनाकार का व्यक्तित्व था और इस व्यक्तित्व के सामने बौद्धिकता के भार से दबे दीगर बुद्धिवादी दबे से लगते थे और इसीलिये हरिशंकर परसाई हर संघर्षशील तथा बदलाव के लिये छटपटाने वाले वर्ग के बीच स्वीकार्य रहे।

हरिशंकर परसाई एक जागरूक स्तम्भ लेखक थे। स्तम्भ लेखन में भी परसाई जी की रचना दृष्टि परिवर्तन की रही। उनकी नजर हर विसंगति की ओर जाती रही। जाति व्यवस्था की क्रूरता अगर उनके प्रहार के घेरे में रही, तो चुनाव में व्याप्त जाति, धर्म, धन व बाहुबल भी उनकी पैनी नजर रही और भारत के चुनावों पर उन्होंने जमकर प्रहार किया। परसाई जी ने एक जगह लिखा कि क्रांति कभी रूकती नहीं, वह भूखी होकर आक्रमक हो जाती हैं।

हरिशंकर परसाई रचनाकार थे, सच्चे बौद्धिक इसलिए माक्र्सवाद को डाग्मेटिक बनाने वाले माक्र्सवादियों की आलोचना की। परसाई जी ने माक्र्सवाद के विकासशील रूप को स्वीकार किया था। उनकी दृष्टि व्यक्ति चेतना और समष्टि चेतना के विकास के लिये सकारात्मक जीवनदृष्टि ही रही। परसाई जी ने तर्क की कसौटी पर माक्र्सवाद को देखा-परखा था इसलिये उन्होंने माक्र्सवादी दर्शन की विकासशील और प्रगतिशील स्थितियों को समझ कर उसे अपनाया था। इसी समझ को उन्होंने अपनी रचनाधर्मिता का अभिन्न हिस्सा बना लिया था ।

हरिशंकर परसाई का लेखन कटाक्ष नहीं है न किसी की खिल्ली उड़ाने के लिए लिखा गया व्यंग्य है। उनका व्यंग्य विसंगतियों पर है और इसीलिये परसाई के व्यंग्य में करूणा की अंतरधारा प्रभावित होती रही है। उनका व्यंग्य यंू ही व्यंग्य करने के लिये नहीं है वरन सोद्दोश्य है और इसीलिये आज भी 21 सदी में हरिशंकर परसाई व्यंग्यकार के रूप में याद किए जा रहे हैं। उनकी किताबें आज भी बड़ी संख्या में छप रही है, पढ़ी जा रही है। उनके कालम में समय झांकता है और पाठक उन्हें पढ़कर उस काल विशेष के उथल-पुथल से रूबरू हो सकता है। उनके व्यंग्य विसंगतियों पर है इसलिये जब तक समाज वर्ग आधारित रहेगा, बुर्जुआ समाज रहेगा, तब तक विसंगतियां हैं और इसीलिये परसाई जी आज भी प्रासंगिक हैं। आज सोशल मीडिया में भी हरिशंकर परसाई के व्यंग्य अंश सबसे ज्यादा उद्धृत किए जा रहे हैं।