Monthly Magzine
Tuesday 16 Oct 2018

निर्वासन


 सलेम जुबरान
फिलीस्तीनी कवि)

सीमा के आर-पार गुजऱता है सूरज
बन्दूकें शान्त हो जाती हैं
तुलकारेम में
भरल-पक्षी शुरू करता है
अपना सवेरे का गीत
और चुग्गे के लिए उड़ जाता है
किब्बुत्ज की चिडिय़ों के साथ
एक अकेला गधा घूमता है
गोलाबारी की सीमा के पार
प्रहरी दस्ते की निगरानी के बाहर
लेकिन मेरे लिए
तुम्हारे इस निर्वासित पुत्र के लिए
ओ मातृभूमि
एक सीमारेखा खिंची है
तुम्हारे आकाश
और मेरी आँखों के बीच
दृष्टि को काला करती हुई