Monthly Magzine
Tuesday 21 Nov 2017

अक्षर पर्व सितम्बर 2016 अंक आद्योपांत अवलोकित कर अत्यंत आनंदानुभूति हुई।

-कैलाशनाथ द्विवेदी, पूर्व प्राचार्य,
अजीतमल, औरेया, मो. 9759341878
अक्षर पर्व सितम्बर 2016 अंक आद्योपांत अवलोकित कर अत्यंत आनंदानुभूति हुई। सामयिक साहित्यिक प्रस्तावना में ललित सुरजन के सशक्त सद्विचारों के अतिरिक्त ‘और दरवाजा खुल गया’, ‘पराई रोटी’ जैसी उत्तम कहानियां ‘बाढ़’, ‘चिल्हर सरीखे दिन’, सहरा सहस कविताएं ‘अजगर करे चाकरी’ जैसी रम्य रचनाएं पढक़र प्रसन्नता हुई। इस स्तरीय और अत्युपादेय अंक की श्रेष्ठ प्रस्तुति के लिए आप साधुवाद और हार्दिक बधाई के सर्वथा सत्पात्र हैं।