Monthly Magzine
Thursday 23 Nov 2017

गजल

कुंदन सिंह सजल
उदय निवास, रायपुर (पाटन) सीकर (राजस्थान) 332718
मो. 9462602928

चर्चाओं में वक्त पुराना, अच्छा लगता है।
कहीं-कहीं पर नया जमाना, अच्छा लगता है।।

किसी किसी का आना, दिल को सुकून देता है
लेकिन कुछ लोगों का जाना, अच्छा लगता है।

किसी किसी के सच पर भी, विश्वास नहीं होता-
और किसी का सिर्फ बहाना, अच्छा लगता है।

हमने कई डिग्रियां ले ली, पढ़-लिखकर लेकिन-
अब भी दादी का धमकाना, अच्छा लगता है।

मोटे मोटे धर्म ग्रंथ पढऩे के एवज में-
छोटे बच्चों से बतियाना, अच्छा लगता है।

तन्हाई की बेला में, यादों के साये में-
तस्वीरों से दिल बहलाना, अच्छा लगता है।

भिनसारे भिनसारे सूरज की अगवानी में-
जंगल में चिडिय़ों का गाना, अच्छा लगता है।