Monthly Magzine
Thursday 18 Oct 2018

गुणसागर सत्यार्थी की रायप्रवीण फरवरी अंक की उपलब्धि है।

 

गुणसागर सत्यार्थी की रायप्रवीण फरवरी अंक की उपलब्धि है। रामकिशोर दहिया के संकलन अल्लाखोह मची की परमानंद अश्रुज द्वारा की गई समीक्षा स्पष्ट, सरल और मुकम्मल है। युवा कवयित्री बाबुशा कोहली से वैद्यनाथ जी का साक्षात्कार इस बात में विचित्र है कि प्रश्न, उत्तरों से बड़े हैं और पुस्तक का लंबा शीर्षक बार-बार दोहराया गया है, परंतु कविता की चंद पंक्तियां ही दी गई हैं।
पूरनचंद बाली, मुंबई