Monthly Magzine
Saturday 18 Nov 2017

वीरबाला वर्मा का कविता संग्रह लोकार्पित


 संदीप उपाध्याय

पिछले दिनों मुंबई विश्वविद्यालय की मराठी भाषा भवन में महिला दिवस के कार्यक्रम में दिवंगत कवयित्री और कथाकार वीरबाला वर्मा जी के कविता संग्रह आखर थोरे का लोकार्पण डॉ. पुष्पा भारती के हाथों संपन्न हुआ। पुष्पा जी ने वीरबाला जी की कविताओं की गहन संवेदना की बात करते हुए उनकी कुछ कविताओं का भावपूर्ण पाठ भी किया तथा लोकप्रिय गायिका सोमा घोष ने उनका एक गीत प्रस्तुत किया।
वरिष्ठ रचनाकार सूर्यबाला ने कहा कि वे जीवन की हर काजल की कोठरी से उजली की उजली ही बाहर आयीं। ज्ञातव्य हो कि वीरबाला वर्मा, सूर्यबाला जी की बड़ी बहन थीं जो असाध्य बीमारी से संघर्ष करते हुए तीन वर्ष पूर्व नहीं रहीं। उक्त कविता संग्रह उनकी अंतिम इच्छा की पूर्ति के रूप में एक श्रद्धांजलि थी, जिसका संकलन और संपादन मुंबई विश्वविद्यालय के प्रवक्ता तथा कवि डॉ. हूबनाथ पांडेय ने किया है।