Monthly Magzine
Friday 24 Nov 2017

अक्षर पर्व का फरवरी-16 अंक मिला। उसके हर अंक में कुछ न कुछ ऐसा अवश्य होता है जो पत्र लिखने को बाध्य करता है।

गंगा प्रसाद बरसैया, ए-7, फारचून पार्क
जी-3, गुलमोहर, भोपाल-462039 (म.प्र.)
अक्षर पर्व का फरवरी-16 अंक मिला। उसके हर अंक में कुछ न कुछ ऐसा अवश्य होता है जो पत्र लिखने को बाध्य करता है। इसी अंक में ‘हिन्दी शब्द सागर’ के प्रथम संस्करण की बाबू श्यामसुन्दर दास लिखित भूमिका देकर तुमने महत्वपूर्ण कार्य किया है। इसमें एक ओर जहां शब्दकोश रचना के विस्तृत इतिहास की जानकारी पाठकों को हुई। वहीं यह भी ज्ञात हुआ कि नागरी प्रचारिणी सभा ने कितनी कठिनाइयां, बाधाएं झेलकर यह महत्वपूर्ण कार्य सम्पादित कराया। ‘हिन्दी शब्द सागर’ सभी के पास उपलब्ध नहीं है तब यह भूमिका सभी के लिए उपयोगी है। यह उन साधकों की तपस्या का सुफल है जिन्होंने तन-मन-धन से पूरी तरह समर्पित होकर संकल्प को पूरा किया जो आज भी ऐतिहासिक उपलब्धि है और आगे भी बनी रहेगी। शब्दकोशों में समय की आवश्यकतानुसार संशोधन-परिवद्र्धन होते रहते हैं, इसमें परिवर्तियां का महत्व कम नहीं हो जाता।
सम्पादकीय में महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा द्वारा प्रकाािशत वर्धा हिन्दी शब्दकोश की चर्चा करते हुए उसकी अधिक कीमत रखे जाने का उल्लेख किया गया है। महंगाई के इस रोग से अब नागरी प्रचारिणी सभा भी मुक्त नहीं है। शायद लोगों को भ्रम है कि अधिक मूल्य प्रकाशनों की गुणवत्ता का प्रमाण है जो सरासर भ्रम है। इससे उसके प्रचार-प्रसार में निश्चित रूप से विपरीत प्रभाव पड़ता है। कम से कम शासकीय सहायता प्राप्त संस्थाओं को अपने को इस रोग से मुक्त रखना चाहिए ताकि अधिकाधिक पाठक उन्हेंं खरीदने का साहस कर सकें।
इसी अंक में गुणसागर सत्यार्थी का राय प्रवीण संबंधी अत्यंत महत्वपूर्ण लेख है। उन्होंने अनेक तथ्यों, प्रमाणों से राय प्रवीण के नर्तकी होने के लांछन को दूर करने की चेष्टा करते हुए उसकी प्रतिभा और निष्ठा का धवल पक्ष प्रस्तुत किया है। महेन्द्र राजा जैन का आलेख भी महत्वपूर्ण है। उनकी जानकारी के लिए बता दूं कि मैंने मैथिलीशरण गुप्त शताब्दी वर्ष पर छतरपुर (म.प्र.) में कार्यक्रम आयोजित कर उनकी प्रतिमा लगाई गई थी। जिसका लोकार्पण तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री मोतीलाल वोरा ने किया था। देश में लगने वाली यह गुप्त की पहली प्रतिमा है जो वहां के मैथिलीशरण गुप्त विद्यालय में लगी है।