Monthly Magzine
Saturday 18 Nov 2017

तटस्थ

अजय चन्द्रवंशी
राजमहल चौक, फुलवारी के
सामने कवर्धा, छत्तीसगढ़
मो. 9893728320
तटस्थ
वह कशमकश में है
वह किस तरफ है
क्योंकि उसे मालूम है
वह किस तरफ है

जमीनी कवि
(एक)
वह मंच पर
दहाड़ता है
और जमीन पर
हांफता है
 (दो)

उसकी रचना में
सिर्फ जमीन होती है
कविता कहीं नहीं

सत्यवादी
वह हमेशा
सच बोलता है
इसलिये
कभी बोलता नहीं
खुद्दार
वह रोज ऐलान करता है
वह बिका नहीं है
इस तरह
रोज बेचता है
अपने न बिकने को
देशभक्त
वह देशभक्त है
इसलिये
कुछ नहीं करता
सिवा देशभक्ति के