Monthly Magzine
Saturday 20 Jan 2018

अक्षर पर्व का सितम्बर अंक देखकर बहुत प्रसन्नता हुई। इसके कई कारण हैं पर सर्वोपरि कारण है जल रंगों से सुसज्जित आवरण ! इ

नवनीत कुमार झा
हरिहरपुर, दरभंगा - 847306, ( बिहार )

अक्षर पर्व का सितम्बर अंक देखकर बहुत प्रसन्नता हुई। इसके कई कारण हैं पर सर्वोपरि कारण है जल रंगों से सुसज्जित आवरण ! इस सुन्दर आवरण को मैं कुछ देर अपलक देखता रहा, क्योंकि मेरे हृदय को एक अनिर्वचनीय और शब्दातीत आनन्द प्राप्त हो रहा थ ! तृप्ति खरे की यह सुन्दर कृति उनके नाम को सार्थक करता है, क्योंकि यह अत्यंत तृप्तिदायक है !
ललित जी की प्रस्तावना भी कम महत्वपूर्ण नहीं है! भगवत रावत जैसे सहज, सरल व्यक्तित्व वाले, विलक्षण और मानवीय सरोकारों से जुड़े कवि की गाय और अन्य कविताओं के बहाने भगवत रावत के विशिष्ट काव्य कौशल तथा दूरगामी भावप्रवणता और दृष्टि सम्पन्न काव्य - भाषा से परिचय करवाता यह आलेख ( प्रस्तावना ) पठनीय है ! भगवत रावत जैसे कवि विरले हैं जिनकी जिह्वा और कलम में कोई फर्क नहीं है ! उनकी कविताएँ वाकई सच्ची कविताएँ हैं !