Monthly Magzine
Monday 15 Oct 2018

विराट के मुक्तक

चन्द्रसेन विराट
121, बैकुंठधाम कॉलोनी,
आनंद बाजार के पीछे,
इंदौर 452018 (म.प्र.)
मो. 09329895540
दंभ का भान नहीं जाता है
खुद का स्तुति-गान नहीं जाता है
व्यक्ति का मान चला जाता पर
उसका अभिमान नहीं जाता है
0
ज्ञान में गर्क नहीं चलता है
अक्ल का अर्क नहीं चलता है
भाव श्रद्धा का हो उसके आगे
बुद्धि का तर्क नहीं चलता है
0
सूखी करुणा की है नदी कितनी
होती दुनिया में है बदी कितनी
सुप्त संवेदना नहीं जगती
घटती रहती है त्रासदी कितनी
0
कोर उसकी है नुकीली कितनी
कोरे नभ में है सजीली कितनी
तीज का चांद है हसिया जिसकी
धार चांदी की कटीली कितनी
0
रस है आराध्य, रसोपासक हैं
रस है प्रतिपाद्य, रसोपासक हैं
इसकी साहित्य रहा साधन ही
रस रहा साध्य, रसोपासक हैं
0
आत्म-अपवाद हो गई जैसे
लुप्त-प्रतिसाद हो गई जैसे
शब्द-उद्योग में ढली कविता
एक उत्पाद हो गई जैसे
0
हर नवाचार हेतु तत्पर हों
सुष्ठु संवाद भी परस्पर हों
आधुनिक आप हैं अगर पथ में
वक्त के साथ हों, समान्तर हों
0
अस्मिता हस्तामलक करती है
पूर्ण वह छवि का मिथक करती है
उनका वैदग्ध्य औÓ भाषा, शैली
रचनाकारों को पृथक करती है
0
लक्ष्य को बाण-बिद्ध करता है
जग को, खुद को समृद्ध करता है
मंत्र होते हैं किन्तु मंत्रों को
कोई बिरला ही सिद्ध करता है
0
तुमको लग सकती है हर बार नया
हो नई सोच, हो व्यवहार नया
वैसे संसार है प्राचीन बहुत
है नई दृष्टि तो संसार नया
0
उध्र्व उच्ध्वास ही नहीं होता
अश्रु-आभास ही नहीं होता
भोथरा हो गया क्या संवेदन?
सूक्ष्म अहसास ही नहीं होता
0
आद्र्र होने भी नहीं देता है
होश खोने भी नहीं देता है
मुझ पुरुष का ही अहम् तो मुझको
खुलके रोने भी नहीं देता है
0
मैं न इनकार, यार! करता हूं
क्यों यकीं बार-बार करता हूं
धोखा खाता हूं दोस्त से लेकिन
हर दफा एतबार करता हूं।।