Monthly Magzine
Monday 20 Nov 2017

बदमिज़ाज मौसम हुआ

 

जय चक्रवर्ती    
एम.1/149 ,
जवाहर विहार,  रायबरेली-229010
मो.9839665691
बेमौसम  बरसात  में , डूब गई  उम्मीद।
फिर किसान के भाग्य में, सूनी होली-ईद।।
नाचेंगी बदहालियाँ  फिर किसान के द्वार।
सौगातें चिर-कजऱ् की, देगा साहूकार।।
सर्वे, लोन, मुआवज़ा, राहत का ऐलान ।                                                                           
आश्वासन जि़ंदा  रहे, मरता रहा किसान।।
सिस्टम  की  पेचीदगी, कारिंदों के दांव।                                                                              
हिस्से रहे किसान के, छल-छंदों के गाँव।।
मरी रियाया बाढ़ में,  डूब गए अरमान ।                                                                                  
बादशाह आकाश में, भरते  रहे उड़ान।।
धरती के भगवान को,  संसद के उपहार ।                                                                              
भाषण, बहस–मुबाहिसे, वादों के अंबार।।
कदम-कदम लफ्फ़़ाजियाँ, पोर-पोर पाखंड।                                                                           
दिल्ली दुखिया भोगती, किन पापों का दंड।।
बदमिजाज  मौसम हुआ, बदज़बान सामंत।                                                                         
होगा इस बद-वक्त का, कहाँ न जाने अंत ।।
उजड़े-सूने खेत पर, होरी खड़ा उदास।                                                                           
अंतहीन इस दर्द का, कौन लिखे इतिहास।।