Monthly Magzine
Tuesday 21 Nov 2017

आड़

कमल चोपड़ा
1600/114, त्रिनगर,
दिल्ली-110035
कई दिन से असद ने न तो गायत्री को ही चराई के लिए भेजा था और न वह खुद ही घर से बाहर निकला था। जिस कोठरी में वे खुद रहते-सोते थे उसमें एक खूंटा गाड़कर उसने गायत्री को बांधना शुरू कर दिया था और जहां पहले गायत्री बंधती थी उस छप्पर के नीचे वे खुद रहने लगे थे। असद तो गायत्री वाली कोठरी के दरवाजे पर चारपाई बिछाकर दिन रात उसकी रखवाली कर रहा था। गायत्री की हिफात में अपनी तरफ से कहीं कोई कसर नहीं छोड़ रहा था। हर आहट पर उसकी रूह जैसे कांपकर रह जाती थी।
खुला रहने की आदी गायत्री कोठरी में बंधी-बंधी आज बहुत बेचैन होकर कुछ बिदक रही थी। असद ने उसे कोठरी से निकालकर वापिस छप्पर के नीचे ला बांधा। इतने दिन कुछ नहीं हुआ तो आगे भी जो होगा देखा जाएगा। मुझे पता है यह सब मेरी हिम्मत तोडऩे के लिए किया, पर मैं नहीं डरूंगा। जो डर गया सो मर गया। डराकर ही तो मारना चाहता है वो हमें... सोचते-सोचते असद की आंख लग गई।
गायत्री के बुरी तरह रम्भाने, अरड़ाने से असद हड़बड़ाकर उठा। उसने देखा एक परछाई उसके घर की बाहरी चारदीवारी को फांदकर भाग रही थी। उसने पीछा करने की कोशिश की लेकिन अंधेरे में वह परछाई जाने कहां गुम हो ही गई थी। वह वापिस गायत्री की ओर लपका। घबराहट के मारे उसे कुछ नहीं सूझ रहा था। जैसे-तैसे उसने माचिस की तीली जलाई थी। तीली की मरियल सी रोशनी में उसने जो देखा उसकी रूह कांपकर रह गई थी। गायत्री की पूंछ और एक कान कोई काटकर ले गया था। गायत्री दर्द से बुरी तरह अरड़ा रही थी। उसकी घरवाली और सात साल का बेटा नूरा भी उठकर आ गए थे। गायत्री की हालत देखकर वे भी बुरी तरह रोने लगे थे।
क्षण भर में असद के दिमाग में सब कुछ साफ-साफ आ गया कि यह नापाक हरकत किसकी है। उस आदमी को किसने भेजा होगा। और आगे वे क्या करने वाले हैं। किसी पूजा स्थल को अपवित्र करके फसाद खड़ा करवाएंगे और फिर जब लोगों को पता चलेगा कि असद यानी एक मुसलमान की गाय के अंग गायब हैं तो लोग उसी पर शक करेंगे कि यह नापाक हरकत असद की ही है। इसके लिए मिलने वाली भयानक सजा के बारे में सोचकर वह पसीना-पसीना होने लगा था।
उन्हें अपने सर पर साक्षात मौत मंडराती हुई नजर आने लगी थी। खौफ और दहशत के मारे असद के हाथ-पांव कांपने लगे थे। उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था वह अब अपनी और परिवार की जान कैसे बचाए? कहां जा छुपे? गायत्री को कहां ले जा छुपाये। उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था वह क्या करे? कहां जाए? उसे लग रहा था वह अपने पूरे परिवार की लाशों के पास बैठा रो रहा है।
उसे लगने लगा था जैसे वह दंगाई दरिंदों से घिर गया है। 'गाय क्या सिर्फ हिन्दुओं की मां हो सकती है?Ó
उसे तो उसी दिन से ही अंदेशा हो गया था कि गायत्री को लेकर कुछ बखेड़ा होने वाला है जिस दिन से शामनाथ चौधरी को पता चला था कि असद के पास बहुत बढिय़ा गाय है जो एक दिन में चौदह सेर दूध देती है और यह गाय और कोई नहीं उन्हीं की एक बीमार बछिया थी जिसे कि उन्होंने ही असद को कई साल पहले खुद ही दिया था। यह पता चलते ही उसी दिन चौधरी असद के घर खुद चलकर अपनी उस बछिया, जो अब साक्षात कामधेनु गाय थी, को लेने चले आए थे।
लेकिन असद अपने घर की बड़ी बुजुर्ग जैसी उस गाय को किसी भी कीमत और किसी भी हालत में शामनाथ चौधरी को देने को तैयार नहीं हुआ था। असद की ये 'नाÓ चौधरी को अपने रूतबे पर सीधे ही थूकने जैसी लगी। काफी कहासुनी के बाद चौधरी असद को देख लेने की धमकी सी देकर चले गए। उसी क्षण से असद और उसके परिवार के सर पर किसी भयानक लाइलाज रोग की कोई तलवार सी लटक रही थी। चौधरी गाय पर हक तो ऐसे जता रहा है जैसे उसने ये बछड़ी मुझे मुफ्त में दी थी। पूरे सात दिन लगकर चौधरी के घर में दिहाड़ी लगाई थी। उसी के एवज में चौधरी ने ये बीमार बछड़ी मुझे दी थी वो भी एकदम मरने मराने की हालात में...।
लकड़ी का बहुत अच्छा कारीगर था असद। कई साल पहले एक दिन जब चौधरी के घर उनके बच्चे के लिए लकड़ी का पालना बना रहा था तो उसे पता चला कि चौधरी की गाय की एक छोटी-सी बछड़ी कई दिन से बीमार है और ठीक होने में नहीं आ रही। चौधरी ने जानवरों के डॉक्टर को बुलाकर दिखाया तो उसने एक पर्चे पर कुछ टीके और दवाइयां लिखकर दे दीं। पता चला कि वे टीके दवाइयां इतने महंगे थे कि उनमें कम से कम चार सौ रुपया खर्च आते थे। चौधरी ने कहा- चार सौ रुपया और डॉक्टर के रोज आकर टीका लगाने की फीस अलग। फिर कोई गारंटी नहीं कि बच ही जाएगी... इतनी कीमत की तो ये बछड़ी है भी नहीं... फिर इस पर इतना खर्च कैसे कर दूं? मरने दो...।
बछड़ी को उसकी हालत और ऊपर वाले की मर्जी पर छोड़ दिया गया था। घर के अंदर काम करने में दिक्कत होने की वजह से चौधरी के घर में पिछवाड़े बैठकर असद काम करता था। वहीं पास ही पड़ी हुई वह बछड़ी अपनी मौत से लड़ती रही। घर वालों ने उसे पानी पिलाना तक छोड़ दिया था। उसे तडफ़ड़ाता हुआ देखकर असद की रूह भी तडफ़ड़ाकर रह जाती। अपना काम छोड़कर वह बार-बार उठकर उसे पानी पिलाता।
इस तरह बछड़ी का तिल-तिल कर मरना असद से बर्दाश्त नहीं हो रहा था। उसने चौधरी से कहा भी कि मालिक अगर पैसों के बदले इस बेजुबान की जान बच सके तो बचा लीजिए। उसकी इस अर्जी पर चौधरी ठहठहाकर हंस पड़ा। जितने की ये है नहीं उससे ज्यादा इसके इलाज पर खर्च कर डालूं तो मुझे कौन समझदार कहेगा?
- 'इस तरह तो ये मर ही जाएगी।Ó तड़पकर कहा असद।
-तो क्या करें?
एकाएक असद ने कहा, 'कहें तो मैं ले जाऊं इसे अपने घर?Ó असद के इस प्रस्ताव को सुनते ही चौधरी के दिमाग में विचार कौंध गया- बहुत भावुक हुआ जा रहा है ये तो! एकदम बेवकूफी की हद कि इसका भी कुछ फायदा उठाया जा सकता है पर क्या...?
चौधरी को एकदम चुप्प-सा देखकर असद ने खुद ही कहा- 'आप चाहें तो आखिरी सांस गिनती इस बछड़ी के एवज में मैंने जो आपके यहां काम किया है वो मजदूरी आप ही रख लें।Ó
-'ठीक है तू भी क्या याद करेगा ले जा।Ó उल्टा अहसान जताते हुए चौधरी ने कहा।
बिना कोई नफा-नुकसान सोचे असद उस बछड़ी को घर लाकर उसकी सेवा और दवा-दारू में जुट गया। जाने कैसे लगाव हो गया था उसे और उसके परिवार को उस बछड़ी से। अपना काम धंधा छोड़कर बछड़ी की सेवा में जुटा देख लोग उसे टोकते- पागल हो गये हो क्या? इस पर खर्च करने का फायदा?
किसी जीव से प्यार करना पागलपन होता है क्या। अपने घर के किसी फालतू बूढ़े-बुजुर्ग या किसी बच्चे का इलाज करवाते समय नफा-नुकसान सोचा जाता है क्या? लोग उल्टा उसी पर हंसते और गर्दन झटककर चल देते। अपने घरेलू इलाज से फायदा न देखकर उसने अपनी घरवाली के जेवर बेचकर जानवरों के उसी डॉक्टर का इलाज शुरू करवाया था। उस दिन 'गायत्रीÓ नाम रख छोड़ा था असद ने उस बछड़ी का और उसी दिन से उस इलाज से उसकी हालत भी बड़ी तेजी से सुधरने लगी थी।
उसी बीमार बछड़ी ने बड़ी होकर असद और उसके परिवार के सारे दलिद्दर ही धोकर रख दिये थे। उसके सारे कर्जे अपने दूध से ही चुका दिये थे। गायत्री की मदद के बिना नसीम के हाथ पीले होने नामुमकिन-सी बात थी। नसीम भी तो उसे अपनी सगी मां से भी बढ़कर मानती थी। ससुराल के लिए विदा होने के वक्त गायत्री के गले लगकर कैसे फूट-फूटकर रोई थी। उसके जाने के बाद भी दो-चार दिन गायत्री ने चारे में मुंह तक नहीं मारा था। फिर कुछ दिन बाद जब नसीम की खैर-खैरियत की चिट्ठी आई थी। नसीम की मां ने वो चिट्ठी सबसे पहले गायत्री को पढ़कर सुनाई थी। वो बेजुबान भी जैसे सब कुछ ही तो समझती थी। नसीम के राजी खुशी होने की खबर पाकर पेट भरकर खाया था उस दिन गायत्री ने और नूरे की मां ने भी तो गायत्री को आटे का पेड़ा खिलाया। उसे खिलाए बिना खुद कभी नहीं खाया था। लोग हंसते- पिछले जन्म में कहीं तुम लोग हिन्दू तो नहीं थे? मां की तरह पुज रही है गायत्री तुम्हारे यहां।
वह फट से जवाब देता- मां होने के सारे फर्ज पूरे किए हैं गायत्री ने। फिर सभी जीवों से प्यार करना तो सभी धर्मों में सिखाया जाता है। अपने जवाब पर लोगों को हैरान देखकर वह कहता, पता नहीं क्यों लोग अपने धर्म के बारे में सिर्फ खुशफहमियां और दूसरों के धर्म के बारे में सिर्फ गलतफहमियां ही पाले रखते हैं?
गायत्री जो कि अब उस परिवार में बड़ी बुजुर्ग की हैसियत रखती थी और जिसे पहले उन्होंने पाला था अब वह खुद उस पूरे परिवार को पाल रही थी। असद को परेशान देखकर बार-बार 'कम्हाÓ कर रंभा उठती थी जैसे उसे दिलासा दे रही हो। असद भी अपना दुख उसके सामने रोने लगता जैसे वह सब कुछ समझ-बूझकर कह रही हो- शामनाथ जो कहता है मैं कैसे मान लूं? कहता है, थोड़े बहुत पैसे लेकर गाय मुझे सौंप दे। कोई पैसे लेकर अपनी मां दूसरों को सौंप सकता है? कोई उस चौधरी से पूछे, उस वक्त तूने तो उसे बीमार बछिया को मरने के लिए छोड़ दिया अब तू किस मुंह से उसे मांग सकता है? ये तो जोर जबरदस्ती की बात हो गई। सिर्फ इसलिए कि हम गरीब हैं और मुस्लिम भी? इसी बात का ही तो मुझे डर है कि कहीं शामनाथ ओछे हथकंडों पर ना उतर आए और खुद ही कोई नापाक हरकत करके खुद ही कोई बखेड़ा ना खड़ा कर दे। और अपने फायदे के लिए कोई दंगा न करवा डाले।
रूह कांपकर रह गई असद की। उसके दिलो-दिमाग पर कितने ही मासूम और बेगुनाहों की चीख-पुकार चील कौओं की तरह मंडराने लगी थी।
उसकी घरवाली और बेटे का घर से निकलना भी दूभर हो गया था। उन्हें रास्ते में रोककर शामनाथ चौधरी की बात मान लेने के लिए धमकियां दी जाने लगी थीं।
शाम हो चुकी थी। चूल्हा जलाती हुई नूरे की मां बोली- 'क्यों जी, हो सके तो कुछ दिनों के लिए गायत्री को ले जा के मामा के यहां छोड़ आओ? कम से कम गायत्री तो सही सलामत रहेगी वहां...।Ó
-मेरे दिमाग में भी आई थी ये बात पर...। चौधरी को तो कुछ न कुछ मौका चाहिए। अगर इधर उसने अफवाह उड़ा दी कि हमने अपनी देवी जैसे गाय को किसी कसाई को बेच डाला है तो...Ó
-चौदह सेर दूध देने वाली अपनी गाय को कोई कसाई को क्यों बेचेगा?
- बात जब धर्म की आ जाती है ना तो सारे तर्क तरीके धरे रह जाते हैं।
उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या करे। क्या नहीं करे? एकाएक नूरे की मां ने कहा, 'फिर तो इस फसाद से बचने का एक ही रास्ता है कि हम गायत्री को किसी हिन्दू भाई को सौंप दें।Ó कहते-कहते नूरे की मां का गला भर्रा गया। आगे कुछ नहीं बोल पाई वह।
फिर उसी ठंडे से लहजे में असद ने उसकी बात बेकार कर दी, 'फिर तो चौधरी और ज्यादा चिढ़ जाएगा। खुद ही कोई शरारत करके नाम हमारा ही लगा देगा। लोग भी हमीं पर शक करेंगे कि हमने अपनी मां जैसी गाय एकाएक किसी और को सौंप कैसे दी? इसमें जरूर कुछ साजिश होगी। अब तो सिर्फ एक ही रास्ता बचा है कि हम खुद ही अपनी गायत्री को शामनाथ चौधरी को ही सौंप दें। इसी में सबकी भलाई है।Ó
उसकी बात सुनते ही नूरे की मां फूट-फूटकर रोने लगी, 'नहीं... गायत्री के बिना हम कैसे रहेंगे?Ó और वह गायत्री के गले लगकर काफी देर तक रोती रही।
बेहद मायूस, निराश और नाउम्मीद-सा होकर असद ने कहा, 'इसके सिवाय अब हमारे पास कोई चारा नहीं है। वर्ना बात बढ़ गई तो जाने कितने मासूम और बेगुनाह बेमौत...Ó
थोड़ी देर बाद अपने आप पर काबू पाकर नूरे की मां ने कहा, 'इसे ले ही जाना है तो नूरे के आने से पहले ही ले जाओ। वो आ गया तो रो-रो के बखेड़ा खड़ा कर देगा।Ó
मन मार के असद उठा, 'आज आखिरी बार तो दूह ही लूं... फिर पता नहीं अमृत जैसे दूध नसीब हो या नहीं...Ó
वह उठा ही था कि राम मंदिर के पुजारी जी की बीवी आ धमकी। उसे आया देखकर एक बार तो असद और उसकी बीवी की रूह कांप गई। क्षण भर में जाने कितनी भयावह आशंकाओं ने उसके दिलो-दिमाग को हिलाकर रख दिया। लेकिन अगले ही क्षण पुजारिन के हाथ में लोटा देखकर उनकी जान में जान आई।
बहुत डरते झिझकते हुए पुजारिन ने कहा, 'हमारा छह महीने का बच्चा बहुत बुरी तरह बीमार है। मिनट-मिनट में उल्टी दस्त कर रहा है। कहते-कहते पुजारिन का गला रुंध गया। वैद्य जी ने कहा है कि इसे गाय का दूध पिलाओ। अगर हो सके तो थोड़ा-सा दूध...।Ó
-क्यों नहीं? क्यों नहीं? मां के दूध पर तो सब बच्चों का बराबर का हक होता है ना?
असद की मायूसी, निराशा और नाउम्मीदी जाने कैसे एकाएक धुल-पुंछ गई थी। 'आप लोटा रख जाओ मैं दूध दूह के अभी नूरे के हाथ आपके घर ही पहुंचा देता हूं।Ó असद ने नये उत्साह से भरकर कहा।
पहले जैसे जोशोखरोश से वह गाय के सानी-पानी में जुट गया। चौधरी तो सिर्फ मुनाफे की बात सोचता है बस्स। उसे क्या पता कि गाय के साथ-साथ हमारे मुल्क की तहजीब और कद्रे जुड़ी हुई हैं। अगर हम गायत्री चौधरी को सौंप दें तो पारवती बुआ, जिसके इकलौते जवान बेटे को टी.बी. हो गई है, को चौधरी मुफ्त में दूध देगा?
दूध की पहली धार उसने बाल्टी में गिराई ही थी कि उसे कुछ बच्चों का शोर सुनाई दिया। उसने मुड़कर देखा धूल-मिट्टी से सने हुए चार-पांच बच्चे उसके पीछे आ खड़े हुए थे। नूरे के सिवाय सभी बच्चे 'हिन्दुओंÓ के थे। नूरा बोला, 'अब्बू ये मेरे दोस्त हैं। दूध की एक-एक धार इन्हें भी पिलाओ ना?Ó
-हां हां... क्यों नहीं। एक एककर मेरी बायीं ओर आते जाओ।
असद बारी-बारी सब बच्चों के मुंह में गाय के थन से सीधे ही दूध की धारें मारता रहा। बच्चे खुशी से किलकारियां मार रहे थे। आखिर में कोई चार-पांच साल का बच्चा जो कि उन सबमें से छोटा भी था, डरते-डरते आगे बढ़ा।
-डर मत, हां, हां, मुंह खोल... पूरा मुंह खोल।
ज्यों ही असद ने उसके मुंह में दूध की धार मारी, नूरा बोला, - 'अब्बू ये लड़का पता है कौन है? शामनाथ चौधरी का पोता...Ó
चौधरी का नाम आते ही असद कांपकर रह गया। उसके हाथ के कांपने से दूध की धार बच्चे के मुंह के अंदर ना जाकर चेहरे पर पड़ गई। उसकी नाक, गाल, सारे चेहरे पर दूध ही दूध लग गया। बच्चा खाली मुंह चलाकर रह गया। इसे देखकर बाकी सब बच्चे हंस-हंसकर दुहरे होने लगे। बहुत पवित्र और बेखौफ सी उस हंसी को सुनकर असद की रूह भी खिल उठी वह भी हंस पड़ा। गायत्री भी बार-बार उधर देख-देखकर खुश हो रही थी। मां की तरह बच्चों की खुशी में अपनी खुशी ढूंढती हुई सी।
असद ने चौधरी के पोते का मुंह पुंछवाया और फिर बड़े प्यार से दूध की धारें पिलाईं। खुशी से उछलता हुआ वह जाने गा, असद ने उसे आवाज देकर रोका और कहा, 'अपने दादा को कहियो कि गाय जो दूध देती है उस पर लोगों का नाम लिखकर नहीं देती। मां के दूध पर सब बच्चों का बराबर हक होता है। गाय के दूध पर अपना सिर्फ अपना नाम लिखने की कोशिश फिजूल है।Ó
उनके जाने के बाद असद को लगा कि शामनाथ के पोते से उसे यह सब नहीं कहना चाहिए था। वह तो पहले ही से फुंका बैठा है। कहीं उसे यह सब बुरा लगा तो चिढ़कर जाने क्या कर बैठे?
कैसे बुरे-बुरे ख्यालों के डर से उसे सारी रात नींद नहीं आई। लेकिन कुछ ऐसा वैसा हुआ नहीं। इससे असद को थोड़ी तसल्ली हो गई थी।
अगली रात गायत्री के कोठरी के अन्दर बंधे-बंधे कूदने-बिदकने से असद ने उसे वापिस उसी छप्पर के नीचे ला बांधा और उसी रात उसकी पूंछ और कान काट लिये गए थे। इस सब का ही तो डर असद को खाए जा रहा था। उसे लगा आज की रात उसके और उसके परिवार के लिए आखिरी रात है। आज का दिन देखना भी नसीब होगा या नहीं कुछ पता नहीं। गलती मेरी है मैंने गायत्री को बाहर बांधा ही क्यों? लोग अपने छोटे-छोटे स्वार्थों के लिए धर्म की आड़ लेकर कितना नीचे गिर सकते हैं? कितने लोगों की जान ले सकते हैं?
उनके घर में मची हुई कुरलाहट को सुनकर आसपास के उनकी बिरादरी के लोग आ जुटे थे।
-क्या हुआ? क्या हुआ?
-खैर तो है ना? कुछ बोलो भी?
बहुत खोद-खोदकर पूछने के बावजूद वे बोले कुछ नहीं बस रोते रहे। फिर असद ने बस इतना कहा, 'किसी ने गायत्री के कान और पूंछ काट लिए अब खुद ही दंगा करवाकर उसका जिम्मा हम पर ही डालना चाहता है।Ó
-'है कौन वो काफिर... उसे जिन्दा नहीं छोड़ेंगे हम, है कौन वो...?Ó
असद ने किसी का नाम नहीं बताया पर कुछ ही देर में लाठियों और लोहे के सरियों से लैस एक सेना तैयार हो गई थी और वे अपने धर्म की जय और दूसरे धर्म के नाश के नारे लगाने लगे थे। असद को थोड़ा सहारा तो हो गया था कि अब उतना अकेला और असहाय नहीं है। पर लग रहा था कि जो होने वाला है वह किसी के लिए भी अच्छा नहीं होगा।
पूरे इलाके में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई थी। वैसा ही हो रहा था जैसे असद को डर था। उधर मंदिर के बाहर भी भीड़ आ जुटी थी। धर्म पर आए खतरे को देखते हुए उनके हाथों में भी त्रिशूल, लाठियां और सरिए आ गए थे। शामनाथ मंदिर के बाहरी अहाते में खड़े-खड़े इधर-उधर जैसे कुछ ढूंढ रहे थे।
पुजारी जी शोर सुनकर बाहर आए और पूछने लगे, 'यह सब क्या है? क्या ढूंढ रहे हैं चौधरी साहब?Ó
हड़बड़ा गये शामनाथ, 'वो... वो ढूंढना क्या? हां, हां सुना है कि किसी ने गाय के कटे हुए अंग मंदिर में फेंककर अपवित्र करने की हरकत की है। हैं कहां वो कटे हुए अंग? यहां तो दिख नहीं रहे? गये कहां? म्लेच्छों की हिम्मत तो देखो। हम इन म्लेच्छों का नामोनिशान मिटा देंगे।Ó लेकिन चौधरी साब यहां ऐसा कुछ नहीं हुआ है। किसी ने मंदिर में कोई मांस-वांस नहीं फेंका है। मैंने खुद सुबह सफाई-वफाई की है। मुझे तो ऐसा कुछ नहीं मिला। आपने किससे सुना है यह सब?
जवाब नहीं दे सके शामनाथ चौधरी। नारे लगाती हुई भीड़ भी एकदम चुप्प हो आई थी। पुजारी जी ने हंसते हुए कहा, 'चौधरी साब, आप भी... इतने बड़े आदमी होकर अफवाहों पर यकीन करके चले आए।Ó
'अफवाह क्या, मैंने तो खुद...Ó कहते-कहते एकाएक रूक गये शामनाथ चौधरी, उन्हें लगा जैसे इतने लोगों के बीच वे एकाएक नंगे हो गए हैं। एकाएक सन्नाटा-सा छा गया वहां। चौधरी साहब के हाथ पांव कांपने लगे। अगर लोगों को पता चल जाए कि यह हरकत उन्हीं की है तो लोग क्षण भर में उनके चीथड़े उड़ा देंगे। मारे घबराहट के चौधरी साहब पसीना-पसीना हो आए। आंय-बांय करते हुए बोले, 'मैंने तो खुद... मैं तो खुद कहा है कि ये अफवाह ही होगी।Ó
बात को संभाल ही लिया चौधरी साहब ने। उनके साथियों की भी जान में जान आ गई।
शामनाथ चौधरी की आवाज की कड़क फिर लौट आई थी, 'पर पता चला है कि वो असद है ना, उस म्लेच्छ ने जो गाय पाल रखी थी उसके कान और पूंछ गायब हैं। हमारे मंदिर को अपवित्र करने के लिए ही उसने ये हरकत कराई है। ठीक है यहां गऊ का मांस बरामद नहींहुआ है, पर उस म्लेच्छ ने गऊ माता के साथ ऐसी हिंसक हरकत किसलिए की है?Ó
 अब एकाएक पुजारी जी को कोई जवाब नहीं सूझा। उन्होंने हथियारों से लैस भीड़ को देखा। उनकी आत्मा कांप उठी। चौधरी साहब कड़कते हुए अपना सवाल फिर दोहरा रहे थे। पुजारी जी के दिलो-दिमाग पर जाने कितने बेकसूर और मासूमों की चीख-पुकार चील-कौओं की तरह मंडराने लगी थी। 'जैसे भी हो मैं ये हिंसा नहीं होने दूंगा।Ó मन ही मन उन्होंने निर्णय किया और बोले, 'वो दरअसल ऐसा हुआ कि कल मैं असद के घर के पास वाले कीकर के पेड़ से दातुन काटने गया हुआ था। वहीं असद की गाय भी चर रही थी। एकाएक उस गाय को जाने क्या हुआ कि मुझे मारने दौड़ पड़़ी। मेरे तो होश ही उड़ गए। मेरे हाथ में दातुन काटने वाला चाकू था। मैंने अपनी आत्मरक्षा को वही चला दिया और बस असद की उस गाय के कान और पूंछ कट गए। मुझे भी बहुत अफसोस है, ये जो कुछ भी हुआ। खैर मैं इसके लिए शास्त्रों के अनुसार पश्चाताप करूंगा ही...Ó
पुजारी जी से ऐसे बयान की चौधरी साहब को बिल्कुल भी आशा नहीं थी। उनके लिए ये समझना बहुत मुश्किल नहीं था कि खुद उन्होंने रात को जो गऊ मांस मंदिर में फिंकवाया था उसे दिन होने से पहले पुजारी जी ने कहीं फेंक, छुपाकर जगह को धो-धाकर साफ करवा दिया होगा ताकि दंगा न हो सके। हिंसा न भड़क सके।
अपने इरादों और मंसूबों पर पानी फिरता देखकर चौधरी शामनाथ को गुस्सा तो बड़ा आ रहा था पर वे कर कुछ नहीं पा रहे थे। वे खीझ उठे, 'क्यों झूठ बोल रहे हैं पुजारी जी? आप शायद असद को बचाना चाहते हैं। आप जैसों की वजह से हमारा धर्म मार खा रहा है। हम कैसे मान लें कि आप जो कह रहे हैं वो सच है?Ó
-आप ही बताइए कैसे विश्वास होगा आपको?
-ठीक है आप भगवान जी की मूर्ति के सामने खड़े होकर कसम खाइये कि आप जो कह रहे हैं वो सच है।
शामनाथ चौधरी जानते थे कि पुजारी जी झूठ बोल रहे हैं। 'अब देखता हूं कैसे खाता है ये झूठी कसम?Ó
पुजारी जी धर्मसंकट में पड़ गए थे। यों ही झूठ बोलना और बात पर मंदिर में भगवान के सामने खड़े होकर कसम खाना और बात है। कैसे खाएं वो झूठी कसम? उनकी आत्मा तक कांप उठी थी। तो क्या बेकसूर और मासूमों को हिंसा की आग में धकेल दें। नहीं, मेरा धर्म हर हालत में हिंसा से लोगों को बचाने की शिक्षा देता है। मैं दंगा नहीं होने दूंगा। इसके लिए मुझे चाहे कुछ भी कहना पड़े और पुजारी जी ने उसके सामने कसम खाकर हिंसा को भड़कने से रोक लिया।
मुंह की खाकर शामनाथ अपने घर की ओर लौटते हुए सोचने लगे थे। एक तो काम नहीं बन पाया ऊपर से मैंने गऊ माता के कान और पूंछ कटवा डाले उल्टा वो पाप मेरे सिर चढ़ गया। एक मैं हूं जो... और एक वो पुजारी जी जिसने झूठी कसम खाकर इतना बड़ा फसाद होने से रोक लिया। लेकिन मैं शामनाथ इनसे मात खा लूं...? जिस दिन कभी मौका मिला तब बताऊंगा इन्हें।
खतरा टल गया था। शाम तक सब कुछ शांत हो गया था पर गऊ माता के जख्म अब भी टीस रहे थे। असद और दूसरे लोगों के मन में पुजारी जी के लिए इज्जत और बढ़ गई थी। कई दिन बाद सुबह-सुबह जबकि शामनाथ चौधरी कोई नई तगड़ी चाल-चलकर पुराना हिसाब चुकाने की सोच रहे थे। असद गाय की एक नन्हीं-सी बछड़ी को लिए हुए आ पहुंचा था। दुआ सलाम के बाद असद ने कहा, 'मालिक, हमारी गाय गायत्री ने बछड़ी दी है। इसे मैं आपको भेंट देने आया हूं।Ó
दूध जैसी सफेद नन्हीं-सी गाय की बछड़ी को देखकर चौधरी की रूह तक जैसे खिल उठी थी। शर्म से पानी-पानी हो गए शामनाथ चौधरी। उन्हें लगा कि जैसे किसी ने थप्पड़ मार-मारकर उनके चेहरे को इतना बिगाड़ दिया है कि वे किसी को मुंह दिखाने लायक नहीं रहे हैं।