Monthly Magzine
Wednesday 22 Nov 2017

कैसा होता है हिन्दू?़


धर्मपाल अकेला
एक दिन मेरे एक दोस्त अपने साथ एक छह-सात वर्षीय सुन्दर बालक को लेकर मेरे घर आए और आते ही परिचय दिया, उनकी बहन का लड़का है- पाकिस्तान से आया है, हिन्दू देखने की तमन्ना है फिर बच्चे से मुखातिब हुए, 'हैदर मियां इन्हें देख लो, ये हिन्दू हैं।Ó
बालक ने थोड़ी देर तक चुपचाप मुझे निहारा और फिर मेरे पास आकर मुझे छूकर देखा... थोड़ी देर तक सोचते रहने के बाद मित्र से शिकायत भरे लहजे में कहा- आप बहकाते हैं, ये तो मामूजान हंै... आपके दोस्त... और फिर उनकी अंगुली पकड़ उन्हें हिलाते हुए कहा, 'हमें हिन्दू दिखाइए, सचमुच का हिन्दू?Ó
तभी अखबार वाला आया। मैंने उसकी ओर संकेत कर कहा, 'इन्हें देख लीजिए ये हिन्दू हैं!Ó
अविश्वासयुक्त उलाहने से बालक ने मुझे देखा, 'आप भी इनकी तरह मुझे बहलाने लगे, ये तो अखबार वाला है, हॉकर.. ये तो पाकिस्तान में भी है...Ó
 तभी सड़क पर रिक्शाओं में लदे-फदे कुछ बालक जाते दिखे। मैंने हैदर मियां से कहा, 'इन्हें देख लीजिए हैदर मियां, ये सभी हिन्दू हैं।Ó
हैदर मियां ने उन बालकों की ओर देखा और फिर पलटकर मुझसे बोले, 'छोड़ो मियां, ये तो तालिबे इल्म हैं- देखते नहीं इनके साथ इन सभी के बस्ते लटके हैं, रिक्शा में। हमें तो हिन्दू ही दिखाएं... कल को हम पाकिस्तान लौट जाने वाले हैं?Ó
हम दोनों मित्रों ने हैदर मियां को, प्रेसवाला, सब्जीवाला, डाकिया, वैद्य और हलवाई दिखाते हुए बताया, मियां ये सभी हिन्दू हैं पर हैदर मियां भी एक ही निकले- हमारे बयान की धज्जियां-सी उड़ाते हुए बोले- 'ये धोबी, कुंजड़ा, डाकिया, डॉक्टर और हलवाई हमारे यहां भी ऐसे ही हैं, हमें आप हिन्दू दिखाइए, दिखाएंगे न?Ó
हमने उन्हें वेंकटरमन जी का चित्र दिखाया, 'हैदर मियां ने अप्रतिहत उत्तर दिया, 'ये तो आपके प्रेसीडेंट थे, जनाब, ये हिन्दू कहां हैं.. हिन्दुस्तान में प्रेसीडेन्ट प्रेसीडेन्ट होता है, हिन्दू मुसलमान कहां होता है... हमें सचमुच का हिन्दू दिखाइए जनाब... हम बदलने वाले नहीं हैं।ÓÓ
दूसरे दिन हैदर मियां,दिल्ली चले गए, वहां से पाकिस्तान। तब उन्हें कोई हिन्दू दिखा या नहीं, पर तब से आज तक मैं स्वयं भी हिन्दू की ही खोज में लगा हूं, मुझे तो हिन्दू नहीं मिला है।
क्या आपने कोई हिन्दू देखा है, जी हां ऐसा कोई जो सिर्फ हिन्दू हो, और कुछ नहीं... देख लें तो मुझे जरूर बताइएगा... सत्यं वद्-धर्मधर आत्मवत् सर्वभूतेषु वाला- मिलेगा न?
पुनर्नवा, प्रेमपुरा हापुड़, उप्र- 245101 मो. 9258832100