Monthly Magzine
Wednesday 22 Nov 2017

सपने

 

मोतीलाल
बिजली लोको शेड, बंडामुंडा, राउरकेला - 770032
मो. 09931346271
एक दिन यहाँ
दीपक की रौशनी में
मिट्टी से दोस्ती करेगा सपना
और अंगुली के इशारे पर
मैं खोदूंगा
गहरे अँधेरे के सीने में
उन सपनों की मिट्टïी को
जहाँ एक जोड़ी आंखें
मेरी बाट जोह रही हंै।

एक दिन यहां
आकाश की तरफ हाथ बढ़ाते
तुम्हारी अंगुलियों की कोमलता को
वक्त का लहू
नग्न वृक्ष में बदल देंगी
और कोरे कागज पर
उतर आयेगी गहराई तक की सारी   
   मिट्टी
जिनसे सपना
रौशनी से चौंधिया जायेगा।
यहां एक दिन
सारे वर्जित रास्तों पर
कविताएं चीखेगी
और शब्दों के तीरों से
युद्ध में भी बजेंगे
वसंतोत्सव के गीत
तब नंगी रात की चीख
मेरे और तुम्हारे सपनों में आकर
मिट्टी की बातें बताएंगी।

जब वह कहेंगी
खलिहान और  संसद के बीच
अभी दूरी मिटने ही वाली है
और झोपड़ी से अंतरिक्ष तक
एक रास्ता बनने ही वाला है
तुम्हारी ऑंखें चमक उठेगी
तुम बुनने लगोगे सपने।
मैं सोचूंगा
दीपक की रौशनी में
सर्चलाइट सी ऑंखें
कहीं मेरे सपनों में तो उगी नहीं है
कि नंगी रात की चीख
उमस की सारी काई को
अंतरिक्ष में उड़ाने को तत्पर हो।