Monthly Magzine
Monday 22 Dec 2014

Current Issue

ललित सुरजन
भारतीय राजनीति में दलित-चेतना को प्रतिष्ठित करने में बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक कांशीराम, जिन्हें उनके अनुयायी मान्यवर अथवा साहब के उपनाम से संबोधित करते हैं, ने जो युगांतकारी भूमिका निभाई है उससे सब परिचित हैं। इस श्रृंखला में महात्मा ज्योतिबा फुले पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने उन्नीसवीं सदी में दलित और वंचित समुदायों को अन्याय, अपमान, शोषण व तिरस्कार के खिलाफ उठ खड़े होने के लिए प्रेरित किया था। वे ही पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने दलितों (उस समय के अछूत) के लिए पुणे जैसे घोर रुढि़वादग्रस्त नगर में पाठशाला स्थापित की थी। यहीं उन्होंने बाद में सत्य शोधक समाज की भी स्थापना की थी। महात्मा फुले व उनकी सहधर्मिणी सावित्री बाई ने उस दौर

Read More

Current Issue Article

  • भारतीय राजनीति में दलित-चेतना को प्रतिष्ठित करने में बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक कांशीराम, जिन्हें उनके अनुयायी मान्यवर अथवा साहब के उपनाम से संबोधित करते हैं,
  • By : ललित सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format
  • जनवादी लेखक संघ का आठवां राज्य सम्मेलन
  • By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • हिन्दी की पहली कहानी पर कुछ विचार
  • By : प्रेम कुमार     View in Text Format    |     PDF Format
  • शिलापंख में प्रकाशित : जमीन्दार का दृष्टान्त
  • By : रैवरेंट जे. न्युटन     View in Text Format    |     PDF Format
  • कठघडिय़ा
  • By : इला कुमार     View in Text Format    |     PDF Format
  • एक्सीडेंट
  • By : किसलय पंचोली     View in Text Format    |     PDF Format
  • थैंक्स! अंकल
  • By : दिनेश पाठक     View in Text Format    |     PDF Format
  • नींद ( रूसी कहानी: अंतोन चेखव)
  • By : तरुशिखा सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format
  • प्रछन्न
  • By : रामकिशोर मेहता     View in Text Format    |     PDF Format
  • एक प्रेम कविता
  • By : मणि मोहन     View in Text Format    |     PDF Format
View All Article »