Monthly Magzine
Sunday 23 Nov 2014

Current Issue

 

ललित सुरजन

प्रस्तुत आलेख कुछ माह पूर्व बिलासपुर से प्रकाशित वार्षिक पत्रिका मड़ई के लिए लिखा गया था एवं मड़ई अंक-2013 में \'\'छत्तीसगढ़ : वर्तमान सांस्कृतिक परिदृश्य\'\' शीर्षक से संकलित है। अक्षर पर्व के लोकसंस्कृति पर केन्द्रित उत्सव अंक के लिए अलग से प्रस्तावना न लिखकर यही लेख प्रसंगानुकूल समझकर पुनप्र्रकाशित किया जा रहा है।
छत्तीसगढ़ के सांस्कृतिक परिदृश्य की चर्चा करते हुए कुछ बिन्दु स्पष्टता के साथ उभरते हैं-
1. यह प्रदेश एक लंबे समय से संस्कृति की विभिन्न विधाओं का धनी रहा है। विगत अनेक शताब्दियों के दौरान समय-समय पर यहां रचनाशीलता का जैसा उन्मेष हुआ और जिसकी परंपरा आज तक चली आ रही है, वह किसी भी

Read More

Current Issue Article

  • प्रस्तुत आलेख कुछ माह पूर्व बिलासपुर से प्रकाशित वार्षिक पत्रिका मड़ई के लिए लिखा गया था एवं मड़ई अंक-2013 में ''छत्तीसगढ़ : वर्तमान सांस्कृतिक परिदृश्य'' शीर्षक से संकलित है।
  • By : ललित सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format
  • गवरी नृत्य : मेवाड़ की धरा पर गौरी वंदन
  • By : डॉ. श्रीमती अजित गुप्ता     View in Text Format    |     PDF Format
  • बिदेसिया के अमर रचनाकार भिखारी ठाकुर
  • By : अमन चक्र     View in Text Format    |     PDF Format
  • प्रकृति जहां जिद्दी माँ है
  • By : भरत प्रसाद     View in Text Format    |     PDF Format
  • मिसिंग जनजाति का लोक साहित्य
  • By : डॉ. दिनेश कुमार चौबे     View in Text Format    |     PDF Format
  • बघेली संस्कृति
  • By : देवीशरण ग्रामीण     View in Text Format    |     PDF Format
  • मणिपुरी लोक गाथाओं में प्रतिरोध के स्वर
  • By : ई. विजय लक्ष्मी     View in Text Format    |     PDF Format
  • लोक संस्कृति और परम्परा ( कमरछठ (हलष्ठी) के विशेष संदर्भ में)
  • By : डॉ. गोरेलाल चंदेल     View in Text Format    |     PDF Format
  • बुंदेलखंड की संस्कृति और वहां के संस्कार गीत
  • By : पं. गुणसागर शर्मा 'सत्यार्थी     View in Text Format    |     PDF Format
  • बस्तर के लोक साहित्य में पानी
  • By : हरिहर वैष्णव     View in Text Format    |     PDF Format
View All Article »