Monthly Magzine
Saturday 28 Mar 2015

Current Issue

प्रस्तावना
ललित सुरजन
भारत में वरिष्ठ नागरिकों या यूं कहें वृद्धजनों की संख्या लगातार बढ़ रही है। एक समय था जब साठ वर्ष आयु के व्यक्ति को वृद्ध ही माना जाता था। इधर यह स्थिति बदल गई है, यद्यपि सेवानिवृत्ति की आयु औसतन साठ वर्ष की ही है। रेल किराया, आयकर, बीमा आदि में भी साठ वर्ष को एक तरह से वृद्ध हो जाने का कानूनी दर्जा दिया जाता है। फिर आज के सामाजिक वातावरण में इस आयु समूह के लोग वरिष्ठ नागरिक ही कहलाया जाना पसंद करते हैं। वे वृद्धता का बोझ अपने ऊपर नहीं लादना चाहते और यह बड़ी हद तक उचित भी है। भारत वर्ष में आजादी

Read More

Current Issue Article

  • प्रस्तावना :भारत में वरिष्ठ नागरिकों या यूं कहें वृद्धजनों की संख्या लगातार बढ़ रही है। एक समय था जब साठ वर्ष आयु के व्यक्ति को वृद्ध ही माना जाता था। इधर यह स्थिति बदल गई है, यद्यपि सेवानिवृत्ति की आयु औसतन साठ वर्ष की ही है। रेल किराया, आयकर, बीमा आदि में भी साठ वर्ष को एक तरह से वृद्ध हो जाने का कानूनी दर्जा दिया जाता है। फिर आज के सामाजिक वातावरण में इस आयु समूह के लोग वरिष्ठ नागरिक ही कहलाया जाना पसंद करते हैं। वे वृद्धता का बोझ अपने ऊपर नहीं लादना चाहते और यह बड़ी हद तक उचित भी है।
  • By : ललित सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format
  • कविता का लोकतंत्र
  • By : राहुल देव     View in Text Format    |     PDF Format
  • नागार्जुन का कविकर्म
  • By : अजितकुमार     View in Text Format    |     PDF Format
  • संशय में हैं संजय जी
  • By : सुषमा मुनीन्द्र     View in Text Format    |     PDF Format
  • तिनके
  • By : ऋषि गजपाल     View in Text Format    |     PDF Format
  • मनुष्य : एक किताब
  • By : अन्य     View in Text Format    |     PDF Format
  • मैं क्यों नहीं
  • By : डॉ. नरेश     View in Text Format    |     PDF Format
  • आपदा
  • By : ओमीश परुथी     View in Text Format    |     PDF Format
  • इच्छा-मृत्यु
  • By : कुंवर किशोर टंडन     View in Text Format    |     PDF Format
  • खुश चेहरा
  • By : तरसेम गुजराल     View in Text Format    |     PDF Format
View All Article »