Monthly Magzine
Friday 15 Dec 2017

Current Issue

आप एक सुरम्य स्थान पर पहुंचते हैं। वहां एक विशाल शिला है जो अपने रंग और आकार के कारण दूर से आकर्षित करती है। आपका मन होता है कि इस चट्टान पर चढ़ जाएं और चारों ओर जो प्राकृतिक छटा बिखरी है उसे जी भर कर देख लें। भारत में अगर आप ऐसा करना चाहेंगे तो इसे एक स्वाभाविक इच्छा माना जाएगा। आपके साथ कोई रोक-टोक भी नहीं करेगा। आजकल सेल्फी लेने का जमाना है तो उस सुन्दर शिला पर खड़े होकर आप शायद सेल्फी भी ले लेंगे। आपका मन होगा तो चट्टान पर कहीं किसी नुकीले पत्थर से अपना नाम भी कुरेदकर आ जाएंगे। अगर आप नौजवान हैं तो हो सकता है कि आप अपने नाम के साथ दिल

Read More

Current Issue Article

  • कविता की बात सुनाती कविताएँ
  • By : प्रियंका     View in Text Format    |     PDF Format
  • हम एक जड़वत देश हैं
  • By : सर्वमित्रा सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format
  • समकालीन व्यंग्य की भाषा
  • By : राहुल देव     View in Text Format    |     PDF Format
  • क्या विभीषण भातृद्रोही थे ?
  • By : डॉ शोभा निगम     View in Text Format    |     PDF Format
  • सुशासन की नौका से विकास की यात्रा
  • By : डॉ. सरोज कुमार शुक्ल     View in Text Format    |     PDF Format
  • मेरी बांग्लादेश यात्रा
  • By : सेराज ख़ान बातिश     View in Text Format    |     PDF Format
  • इतिहास और मिथक के जरिये वर्तमान को देखने वाले आत्मजयी कवि कुंवर नारायण
  • By : कृष्ण कुमार यादव     View in Text Format    |     PDF Format
  • सफेद कागज
  • By : ललित सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format
  • कुशीनारा से गुजरते: बुद्ध के साथ एक गहन अन्तर्यात्रा
  • By : नंदकिशोर नंदन     View in Text Format    |     PDF Format
  • विश्व सिनेमा की समझ बढ़ाती पुस्तक
  • By : मनीष कुमार जैसल     View in Text Format    |     PDF Format
View All Article »