Monthly Magzine
Tuesday 28 Jun 2016

Current Issue

मधुर नज्मी, गोहना, मुहम्मदाबाद
मार्च अंक के उपसंहार में मकबूल शाइर निदा फाज़़ली की शाइरी पर सर्वमित्रा जी के तथ्यपरक, तर्कपूर्ण उद्धरण, शाइर की मकबूलियत को दो बाला करते हैं। निदा साहब आम आदमी के शाइर थे। उनकी अस्मिता को प्रणाम।



Read More

Current Issue Article

  • अक्षर पर्व की इस रचनावार्षिकी में धर्म को केन्द्र में रखकर कट्टरता, आतंकवाद, असहिष्णुता, वैचारिक स्वतंत्रता और बुद्धिजीवियों की भूमिका इत्यादि बिन्दुओं पर चर्चा करने का उपक्रम किया गया है
  • By : ललित सुरजन     View in Text Format    |     PDF Format
  • रचना वार्षिकी: भूमिका
  • By : रचना वार्षिकी     View in Text Format    |     PDF Format
  • अशोक जैसा दूसरा उदाहरण दुनिया में नहीं
  • By : अमिय बिन्दु     View in Text Format    |     PDF Format
  • बुद्घिजीवी हमेशा अल्पमत में रहे हैं
  • By : प्रो. अपूर्वानंद     View in Text Format    |     PDF Format
  • आस्था और विचारधारा पर मचा बवाल
  • By : डॉ. व्रजकुमार पांडेय     View in Text Format    |     PDF Format
  • अंतरराष्ट्रीय वित्तीय पूंजी का खेल समझना ज़रूरी
  • By : चंचल चौहान     View in Text Format    |     PDF Format
  • अतिवाद घातक
  • By : डॉ. गंगाप्रसाद बरसैंया     View in Text Format    |     PDF Format
  • धर्म और संस्कृति एक सिक्के के दो पहलू हैं
  • By : प्रो. गिरीश्वर मिश्र     View in Text Format    |     PDF Format
  • धर्म का सारतत्व और रूढि़वादिता
  • By : इला कुमार     View in Text Format    |     PDF Format
  • वैश्विक समाज का संकट और युद्ध
  • By : केदारनाथ पांडेय     View in Text Format    |     PDF Format
View All Article »